KHOJ

Loading

शुक्रवार, 14 जनवरी 2011

क्या मैं ही हूँ from drafts


from drafts means: ये पंक्तिया  मैंने  काफी  पहले  लिखी  थी !  
जिन्हें  मुझे  कभी ब्लॉग पर publish करने का वक़्त नहीं  मिला ....:)

क्या मैं ही हूँ, हँसी के पीछे   गम  छुपाता 
                     किसी  और  के  लिए  मुस्कराता 
क्या मैं  ही  हूँ , लड़ता  झगड़ता 
              सबको  मनाता 
क्या  मैं  ही  हूँ  जो  सपने  सँजोता अनोखे   
                
is this me who is doing all this 
for what???????

क्या  मैं  ही  हूँ ,जो  करता  प्रश्न  स्वयं  से  हमेशा
              कब ,क्यों ,किसके लिये ,कैसे 
क्या  मैं   ही हूँ ,जो  उलझा  हुआ  है 
                छुटने  की  कोशिश  मैं 
        बंधा  हुआ  है 
                   न  जाने  किसकी  कशिश  में 
क्यों  अक्सर  मैं   ही  होता  हू 
               अनचाहे ,अनजाने  में  भी 
सायद  मेरा  सवाल  ही  गलत  था 
       की  क्या  मैं  ही  हूँ 
सवाल  तो  ये  है  मैं  क्यों  हूँ 
जिमेदार  होना  मतलब  ये  जानना  नहीं 
की  क्या  गलत  है  क्या  सही 
जिमेदार  वो  है  जो  करे  गलत  भी  कभी  कभी 
at least कुछ  करे  तो  सही 
न  पूछे  वो  हमेसा  मेरी  तरह 
क्या  मैं  ही  हूँ ?????????


Reactions:

1 comments:

@kh!le$h ch@ndr@ bh@tt ने कहा…

khaaali dimaaagg.... Kaviyo ki "paidaish" ka ghar... :)

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

comments

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes |