KHOJ

Loading

सोमवार, 28 मार्च 2011

ख़ामोशी

यूँ तेरी ख़ामोशी मुझे कुछ भाती नहीं ...
मैं भी बनाता बहाने हसी मुझे भी आती नहीं ...
तू कहती नहीं तेरी आँखें इशारा करें ...
मेरे काबू में नहीं दिल मेरा आह भरें .........
सोचू तेरी मुस्कान वही .....
यूँ तेरी ख़ामोशी मुझे कुछ भाती नहीं ,,,,
बुरा लगता है जब तू कहे न कुछ
रूठ जाता हूँ मैं सचमुच जब तू सताती नहीं ........
मेरा दिन भी ढले न जाने कहा ..
उदासी तेरे चेहरे की जब जाती नहीं..
यूँ तेरी ख़ामोशी मुझे कुछ भाती नहीं ,,
मैं भी बनाता बहाने हसी मुझे भी आती नहीं ..
टूटी जो ख़ामोशी हँसी आ गयी.
मेरा दिल अब तेरे काबू में .....
ख़ुशी छा गयी ...
जो तू आ गयी .....जो तू आ गयी ......
हुआ रिश्ता तेरा-मेरा और भी जुदा ...
...दुनिया की नजर में हमारी तकदीर आ गयी ......
टूटी ख़ामोशी जो ......दिल पे मेरे धडकन की ख़ुशी छा गयी ..:)

गुरुवार, 10 मार्च 2011

सूखे वृक्ष



साथ सूखे वृक्षों की कतार

वक़्त बीता बरसो का . . . .

न आई उन मे बहार . . . .

रोज सुबह करते ओस की बूँद का इंतज़ार . . .

पर न फूटी अब एक भी कोपल जिसमे बसा हो प्यार . . .

रोज सुबह भीग कर तरबतर ओस में . . .

सपने सोचते . . .

आंसू मिले ओस में पोछते . . . .

यु ही बरसो और बीत गये . . .

मौसम न जाने कितने निकले . . .

बसंत उनका कभी न आया . . . .

बसा रहा उनके तनों में काला साया . . . .

वो महसूस करते हर धूप . . .

पर करने छाव उनकी डाली पर . . .

एक भी पत्ता न आया . . . .

आज मेरी नजर पड़ी उनपर . . .

मैंने अपने और उनमे कुछ जादा अंतर न पाया . . .

पर देखते ही मेरे एक चमत्कार हुआ . . . .


अगली सुबह निकली कोपल नयी . . .

मुझे भी आश्चर्य हुआ . . . . . . .

पर पता चला वो चमत्कार था . . .


उस एक पेड़ के गिरने का फल . . . .

हरे भरे होने लगे वो जो सूखे थे कल . . . . .

क्यूंकि उनका दोस्त गिरा उनके लिए . . .

उनकी जड़ो में दे गया प्रेम की उर्वरा शक्ति . . . . .

अब पंछी चहेकते और छाव लगती.

दोस्ती और प्रेम की शक्ति.................




KHUSH!DOST!AM!T.....:)












Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

comments

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes |