KHOJ

Loading

रविवार, 15 जुलाई 2012

चलो फिर से अजनबी बन जाएँ

चलो फिर से अजनबी बन जाएँ,
न तू मुझे याद करे-न तू मुझे  याद आयें 
ऐसा दिन कभी तो आये, 
फिर से रिश्ते ये नये बनाये
भूल के बातें पुरानी सारी,
इस पल में नयी दुनिया बसाए
फिर से मिले जो हम दोनों,
और एक दूजे को न पहचान पाए
फिर से हो वो पहचान हमारी, 
फिर दोस्ती करे हम और प्यार में खो जाए
भूल कर दुनिया सारी,
जो हो न सका था पहली उस मुलाकात में, 
शायद वो अगली अनजान मुलाकात में हो जाए 
चलो फिर से अजनबी बन जाए.......

किस्से बीते हमारे सारे,
यादों का भी ठिकाना भूलें
बिसरे सारी गलती हमारी
यादो को बनाये फिर से,
जिसमे हो बातें प्यारी प्यारी 
जुदाई की भी मजबूरी न हो
दिलो में हमारे दूरी न हो 
कुछ इस तरह हम अगर फिर मिल जाए 
 पहले इस से चलो एक बार फिर से
एक दूसरे   के लिए अजनबी कहलायें 
चलो फिर से अजनबी बन जाएँ,
न तू मुझे याद करे-न तू मुझे  याद आयें !!!

क्रमश:.........


मंगलवार, 24 अप्रैल 2012

Chacha... A Story...

Download this story as pdf
PROLOGUE 
             Sometimes I feel it’s worthless to do internship in big organizations like Mahindra, because everyone seems busy in their own work here, and no one takes you seriously. No one is here to supervise you properly. All they say is, ‘just watch and learn’
               So I got bored with this ‘watch-and-learn’ type of internship in the very first month of my six months internship. So, to get rid of this boredom in company I developed a habit of talking with old workers (because they are the only people who’ll talk to you here). Company assigns less hectic work to them here, because most of them are going to retire very soon.
           Chacha, is one of them, working in a sub-assembly shop of brake-pedals. Though in the beginning I used to dislike Chacha, because he is strict and dominating, always trying to prove you wrong with his arguments and that is why most of his fellow workers keep a distance from him. We didn’t know his name in our starting days, so we gave him a pet-name ‘Chacha’ (Though his real name is Avtar Chand), for our gossips with fellow interns.
 -----------------------------------------------------------------------------------------------

1   

       On a same boring day in Mahindra Tractors, when there was nothing left to amuse us and rescue us from the daily routine, we friends went to Chacha’s shop to help him with his work, to be true we went there to have a talk session,and started assembling the brakepedals with him.

‘What's the target today, uncle?’ I asked, just to start the talk, though I knew it’s seventy three.
‘It’s seventy three’ he replied, adjusting his rectangular-framed glasses.
‘Don’t worry, we’ll complete it before time’ Amitabh(friend, classmate, roommate and fellow-intern) said, trying to re-grip his nut-runner.
‘Hmm, one more week….’ Chacha muttered, scratching his half bald head.
‘One week? For what?’  i said,having no idea of what he said.
‘For my retirement, just one more week and I will be retiring.’ Chacha said, in a heavy tone with his eyes focused on his work table.
‘So, for how many years have you been working here?’ I asked, finding it a good topic for a long talk.
‘Grip it hard, and place the washers before nuts’ Chacha replied, staring at my hands on the nut-runner.
‘What?’ I was not expecting such an answer. Anyhow it was not related to my question.
‘It’s hazardous to lose your grip, on Iron and Woman’ Chacha again, it was a typical Chacha style and it was irritating.
‘Hmm... .’ i muttered, while pretending to hold my nut-runner more tightly.
‘So, for how many years…. ‘ Amitabh tried to bring the topic back.
‘Thirty nine years, since 1973’ Chacha interrupted, with raised eye-brows.
‘You must be feeling bad, uncle! Thirty nine years! It’s really a very long time’ I knew it was a little obvious question.
‘Hmm.. Not that much, why should I feel bad? My age is old enough to sit at home and take rest now’ Chacha replied, this time after taking a long pause.
‘They should gift you a tractor.... after all, you made thousands of them’ I tried to tease Chacha, with this tricky statement...
‘You people are going to become engineers soon, but you are not serious for work, you are not professional, it’s not going to work if you will continue like this…’ Chacha replied, this time in a little irritated tone, with mixed Punjabi and Hindi...
I felt it’s better to tight the nut-bolts, then mocking Chacha. And kept silent for a while. 
‘Hmm… They sell a plastic model of these tractors as a gift item , earlier it was of Rs.50, then it became of Rs. 100 and now it’s of Rs. 150, but the company never gifts us that small model, So how could you expect them to gift us a real tractor ?’ Chacha said breaking the silence,he picked some bolts in his hands and while showing them to us, continued, ‘Even if today, someone will put these small bolts in my lunchbox and if security guards catch me with these bolts, they will call police… no matter for how long I have been working here...'
And I was clueless... Why the management is so harsh? So, after a pause I asked again,
‘Uncle! Why are they so unkind? Why don’t they trust anyone here?’
‘That’s called "professionalism" boy’ Chacha replied quickly, with a feel of victory in his eyes...
‘Hmm…’, maybe it was one of the best lessons I learnt in these days of my internship.. or maybe it was the first one.. PROFESSIONALISM!!!
‘May be that’s the reason why you are not attached with the company’ I said, and I felt that it was inappropriate for me to have said that.
‘It’s not like I am not attached with company or people here, but I am satisfied with my journey in this company, so I am happy to retire’ Chacha made his point.
‘hmm.. that’s right..’ I nodded.
‘I had twenty rupees and a Charpai(bed) with me, when I came here from my village, and today I own a property of more than a crore rupees here.. So why should I not be happy?’ Chacha said again.
‘That’s a big achievement uncle, you must be proud of this’ I replied, ‘So,how do u feel about your journey till now in the company?’
‘Hmm.. Now I feel it nostalgic when you call it an achievement’, Chacha sighrd proudly.

We were all set, to listen the story of Chacha “from a twenty rupees man to a crorepati”
----------------------------------------------------------------------------------------------

रविवार, 22 अप्रैल 2012

पुष्प की तो आदत है बिखर जाने की

पुष्प  की  तो  आदत  है  बिखर  जाने  की .....
कुर्बान  होकर  दूसरो  के  काम   आने  की ......
लेकिन  दर्द  तो  कंटक  को  होता  है .....
जब  वो  देख  सामने   क़ुरबानी  पुष्पों की  रोता  है .....
उसके  सामने   ही  खिलता  था  जो .....
उसके  सामने  ही  कोई  तोड़  गया ....
कुछ  न  कर  सका  कंटक ....
बस  सीमा  में  आये   कोई  तो  निशान छोड़  गया .....
कोशिश  न  जाने क्यूँ  करते  है  लोग  फिर  कंटक  को  झुठलाने  की .....
पुष्प  की  तो  आदत  है  बिखर  जाने  की .......
हम  आप  क्या  समझे  हस्ती  उस  कंटक  नाम  के  दीवाने  की ....
पुष्प  की  तो  आदत  है  बिखर  जाने  की......................

"तेरा ही साथ था "

दोस्त की कलम से :

डरता  हूँ  अब  चलने  से , ज़िन्दगी  की  ओर ...
ज़िन्दगी  ने  सुनाये मुझे  कई  ग़मों  के  शोर ...
मैं हार गया  हूँ, चुने  हुए  कुछ  पलों  के  साथ  ज़िन्दगी  यु ही बस गुज़र  रहा  हूँ..
कदम  बढ़ाने   से  डरता  हूँ ,
इस  घोर   सन्नाटे   से  डरता  हूँ,
जाने  इस  अँधेरे  में  कहाँ  खो  गया  हूँ ,
खुद  से  खुद  ही  का  अस्तित्व   मांग  रहा   हूँ ,
चुने  हुए  कुछ  पलों  के साथ  ज़िन्दगी   युही  बस  गुज़र  रहा  हूँ ,
डरता  हूँ  चलने  से  अब  जन्दगी  की  ओर ..
ज़िन्दगी  ने  सुनाये  मुझे  कई  ग़मों  के  शोर ...
आ   मेरे  साथ  चल,
ले  चलूँ  तुझे  जिंदगी  की  ओर ..
आ  सुनाऊ  तुझे,
ज़िन्दगी  में  बिखरी  खुशियों  का  शोर ..
ज़िन्दगी  में  उकेरे   रंगों   को  देख  ,
पहचान  अपना  रंग,
फिर  आ  चल  मेरे  संग,
ले  चलूँ  तुझे  जिंदगी  की  ओर ..
जहाँ  तू  पायेगा  अपनी  जिंदगी  की  डोर..
हरा  नहीं  है  तू ,
बस  थोडा  थक  गया  है ,
आगे  बढ़ते-बढ़ते   ,
बस  कहीं  रुक  गया  है,
बंधा  है  जिस  काली  घटा  से  घन -घोर,
दे  उसे  झक-झोर ,
आ   ले   चलूँ  तुझे  ज़िन्दगी  की  ओर ..
देख  बाहें पसारे  खड़ी  हैं  तेरी  खुशियाँ  उस  ओर..
आ  ले  चलूँ  तुझे  जिंदगी  की  ओर ...:-)



मेरा   ख़याल  उपरोक्त पंक्तियो    के  लिए 
   
"तेरा  ही  साथ   था "

डरता  भी  था  ज़िन्दगी  से  तो  भी  चलता  था  ज़िन्दगी  की  ओर . .
तेरी  मुस्कान  की  खनखनाहट   के  आगे  बौना लगता  था  ये  ग़मों  का  शोर . .
हारने  का  विचार  पसरा  था  मन  में . . .
पर  पल -पल  बढ़ता  रहा  तुम  जो   थी  जीवन   में . .
अँधेरे  और  सन्नाटे   में  मेरा   अस्तित्व  
खोने  ही   वाला  था . .
पर  वो  भी   तेरे  अस्तित्व  से  था  जो  कहाँ  हार  मानने  वाला  था . . .
और  अब  जो  तुने  खुद  हौसला  दिया  है . .
सुनाया  खुशियों  का  राग  और  रंगों  का  राज  खोला  है . . .
ज़िन्दगी  की  डोर आ गयी  हाथ  में थकान  कर दूर  तूने  बस उमंगो  का  रस  घोला  है . . .
रुका  जहाँ   था  वहां  से  मंजिल  नजर  आने   लगी  है . .
हर  काली  घटना  बीता  कल  जो  तू  मुस्कुराने  लगी  है . . .
दिखाया  बाहें  खोले  खुशियों  को  जो  तुमने वो तो  तुम  ही थी . .
अब  बस  चलता  रहूँ  ज़िन्दगी  में  संग  तेरे . . .
फिर  चाहे  सुनाई  दे  शोर  खुशियों  का  या   हो   गम  मेरे . . .

By : KhusHDOSTAm!T

गुरुवार, 5 अप्रैल 2012

कुछ लिखा नहीं


पूछते  है  जब  सब  "कुछ  लिखा  नहीं ". .
तो  सोचा  कुछ  पल  मैंने  भी   यू हीं. .
तो  मन  में  आया  ख्याल  यही . .
दिल  में  उम्मीदों  का  हौसला  मंद  था . . 
शायद  इसलिए  लिखना   बंद  था . . 
खुश  होकर  जब  मैं  झूमता  हूँ ..
तो  लपक  कर  कलम   कुछ  लिखता  हूँ . .
दुखी  होता  हूँ  तो  उसकी  भी  मौज  मनाता  हूँ . . . 
पकड़  कर  कागज  कुछ  लिख  जाता  हूँ ..
पर  जब  दिल  औसत  होता  है .. 
हर  भाव  अपना  भाव  खोता  है .. 
मैं  भी  छोड़ता  चलता  हर  पल  जो  कलम  से  सिमट  सकता  था . .
क्या  कहू  मन  में  ऊह-पोह  का  कैसा  द्वंद  था ..
शायद  इसलिए  लिखना  बंद  था . , 
खुद  के  लिए  समय  मिलता  था  खुद  की  व्यस्तता  से . . .
और  दूसरो  की  अच्छाई  मैं  देख  पाता  था ..
आशाओ  का  दामन  थाम  थोडा  बहुत  लिख  पाता  था ...
महसूस  किया  जो  खुद  ने, बताना   अच्छा  लगता   था ...
लिखना  मेरा  शौक   नहीं  जीवन  का  हिस्सा  था ..
खुद  को  बयां करने  की  हसरत  कम  होने  लगी  थी ..
शायद  इसलिए  कलम  थमी  थी ..
ऊपर  से  यारो  से  दूरी    जीने  का  ढंग  बदल  देती  है ..
जिंदगी   चुपके  से  ऐसे  इम्तिहान  लेती है
पर  इन  इम्तिहानो  का  फल  जब  मिलता  है ..
ये  दिल  उन्मुक्त  पंछी  सा   आसमां  में  उड़ता  है ...
हर  गिरता  लम्हा  फिर  मैं  थामने  लगता  हूँ ..
फिर  से  बांधकर  शब्दों  में  उसको  बाटने  लगता  हूँ. . 
आज  भी  कुछ  ऐसी  हरकत  कर  गया  हूँ . . .
आदत  से  मजबूर  देर  से  ही  सही  कुछ  लिख  गया  हूँ . . . . 
इन्तजार   हमेशा   रहता   है  उस  एहसास  का जो दिल में बंद था
शायद इसलिए लिखना मेरा कम था
खुला है शायद  रास्ता कुछ आज ...
बिखरे है अल्फाज बिन साज 
अमित कभी "आवर्त" तो कभी खुश दोस्तों के साथ कुछ न कुछ कहता रहेगा....
ये लिखना, लिखना नहीं जीवन है मेरा रुक-चल-रुक चलता रहेगा....................    

मंगलवार, 21 फ़रवरी 2012

आवर्तिकाए : ४


"मेरी और आवर्त की कुछ बातें जिनमे न छंद है
न ही लय न ताल है
बस जिन्दगी से जुड़े कुछ सवाल है
इन्ही बातो को मैंने नाम दिया है आवर्तिकाए" 


काश दो घूट "पीने" से ...."आवर्त"
दिल का गम वाकई में कम हो जाता...


कुछ उम्मीद ज़िन्दगी से हमने की ..."आवर्त"
और कुछ ज़िन्दगी ने हमसे की ..................
दोनों के पूरे होने का इंतज़ार है बस ...


हसी तो २रो पर आती  है ..."आवर्त"
लेकिन
रोना खुद पर आता है .....
जिस दिन सीख लिया हसना खुद पर
और रोना २रे के लिए ......ज़िन्दगी बदल सी जाएगी

लफजो के भाव से नहीं ......"आवर्त"
उनको बयाँ करने के तरीके से फर्क पड़ता है  ....

ख्वाब को छूने का एहसास ही इतना मदहोश कर गया "आवर्त"
की अब हाथ से छूटने के बाद भी उसका सुरूर छाया है !!! :)


"आवर्त"
कोसा भी भगवान् को .....पूजा भी भगवान् को

कब तक यु शर्म का नकाब ओड़ता फिरू
इस बेशर्म से मिजाज पर ........."आवर्त"
अब तो आइना भी कर डालता   है सवाल कई ?????

कुछ हसीं पलो की दास्तान है ज़िन्दगी ....
इन पलो के बिना खामखा है ज़िन्दगी .............:)

कुछ अधूरा है आजकल ..."आवर्त "
और दोस्त मेरे , मुझसे दूर है ......

जैसे तेरा हाल .....वैसा ही उसका हाल .."आवर्त"
बस बयाँ करके बेहाल नहीं होना चाहते .... न वो न तू ..

छोटे-छोटे ":)" के पलों में जिंदगी हमारी है ..."आवर्त"
एक गुजरा अभी-अभी अगले की बारी है ......"so always keep :)"

उनकी नींद ज्यादा कीमती है .......
रातो को जग-जग कर......"आवर्त"
जिनका इंतज़ार तुम किया करते हो .......

पिंजरे से छूटते ही ... पंख फैला, उड़ने की छह को रोक न सका वो ..."आवर्त"
जमीं से टकराकर ही , हुआ एहसास उसे ...
"इक नयी शुरुआत चाहिए होती है , बन्धनों से उबरने में"..........



अबेर नि हुन्दी राती बीतन माँ ......"आवर्त" भेजी
अबेर ता हुन्दी च सुबर जागन माँ ...............

(Night never take so long to go...."Avart" Bro
it's U who takes long to wake up...........)

देर नहीं लगाती रातें बीत जाने में ....
तुम देर लगा देते हो जाग जाने में ........"आवर्त"




Be Better Than Past Lesser than Future.......Dude "Aavart"
This is How "THE LIFE" makes u mature........
बीते हुए से बेहतर भविष्यता के निर्माण में ....
"आवर्त"...लगा है तो जिंदगी तेरे साथ चलती है ....

ब्याली जू देखि छो भोल नि रौन वेण ....भुला "आवर्त"
स्य ज़िन्दगी तनी चलनी राली तयार निर्माण मा .......




माया तू लुकांदी जा ....ल्वाला "आवर्त"
आणखी तेरी बच्यान्दी च ......

Keep HIDING your LOVE........"Aavart"
Your EYES speaks More Than "U"

कब तक छुपाओगे ये प्रेम भाव ...."आवर्त"
कुछ है जो पढ़ लेते है तेरी आँखों को .....


ये  तो बस शुरुआत  है  "आवर्त"
बातें तो हमारी चलती रहती है ..............चलती रहेंगी .....  क्रमश : 


मंगलवार, 31 जनवरी 2012

आवर्तिकाए : भाग 3

"मेरी और आवर्त की कुछ बातें जिनमे न छंद है
न ही लय न ताल है
बस जिन्दगी से जुड़े कुछ सवाल है
इन्ही बातो को मैंने नाम दिया है आवर्तिकाए" 


मैंने  पूछा  इतना  क्यूँ  लिखते  हो ........ "आवर्त"
कहने लगा खुद को  बयाँ करने  की  हसरत  रखता  हूँ  बस ....


भावुक  न  होना  देख  किसी  को  दुविधा  में .."आवर्त"
सांत्वना  की  जमीन  पर  फूंक  कर  रखना   कदम 
क्यूंकि  लोग  कहते  है  आज-कल
ये  मेरा  गम  वो  तेरा  गम .....................

शायद  दोस्ती-ख़ुशी-प्यार   इसे  ही   कहते  है ..."आवर्त"
हँसता  वो  है  चेहरा   मेरा  खिल  जाता  है ............:):)


लिखने  से  ध्येय  पूरा  नहीं  होता ........"आवर्त"
सिर्फ
"बहुत  अच्छा  सोचते  हो " कहते  है  लोग .......


सबको  साथ  लेकर  चलना  मुस्किल  है ..."आवर्त"
सबके  साथ  थोडा-थोडा  चला  कर..............


अक्सर  मैं   ये  सोचता  हूँ ...."आवर्त"
की  वो   क्या  सोचती  होगी ...................


अपनों  के  बीच  ऐसा  रम  गया मैं ..."आवर्त"
तेरी  याद  भी  न  आई  ...

‎दूसरे  की  ख़ुशी  में  खुश  हो जा...."आवर्त"
खुश  ही  रहेगा  हमेशा ....


उसके  बिना  खुश  रहना ..."आवर्त"
उसकी  खुशी  के  लिए  ही .......बड़ा  तड़पाता  है

काश!! ऐसा  हो  पता  ..."आवर्त"
जो  मुझे  भूल  जाता
में  भी   उसे  भूल  पता .........


आधीखुशी ........."आवर्त"
पूरी  होगी    देर  से  सही ........


झुंझलाता  क्यूँ  है ....."आवर्त"
अपनी  कसक  जब  किसी  की  कशिश  में  नजर  आती  है ....


इश्क  में  इंसान   मजबूर  हो  न  हो ...."आवर्त"
"मशहूर" हो  ही  जाता  है .....


आते  जाते  बातो  में ...."आवर्त"
ख्याल  तुम्हारा  दे  जाता  है  हर  कोई ....




जीवन  भर  जो  संजोया  है ..."आवर्त"
पल  भर  में  गवां  दोगे ............




आजकल  दोस्त  कहते  है  ...."आवर्त "
"मैं  कवि  नहीं मैं  क्या  बोलू"



सफ़र जारी है क्रमश : ......


बुधवार, 25 जनवरी 2012

गणतंत्र की बयार

साल  में  फिर  से एक  बार
बहेगी  "गणतंत्र " की  बयार
होगा  कुछ  तो  असर
फहराएँगे   झंडे   हजार
फेसबुक  रंग-तिरंगा  होगा 
"Status"  में  होगी  सबके  गणतंत्र  की  पुकार
स्कूलों में  बूंदी  बटेंगी  मजेदार
इसकी  ही  ओते  में  कर  रहे  होंगे  कुछ
नेता  एक  दूसरे  पर  वार
कुछ  है  नए  वादों  और  इरादों  के  साथ  तैयार
कुछ  कहेंगे  "हर बार  का  नाटक  है  यार"
देश  बदलने  के  किये  "हम कर भी क्या सकते है यार"
कुछ  के  हाथो  में  ही  तो  है  देश  की  पतवार
कुछ  कर  रहे  है  करते  रहेंगे  देश  को  बीमार
कुछ  है  जो  द्रढ-निश्चय  लेंगे  करने  को  देश  का  उद्धार
भारत  माता  की  जय ....गणतंत्र  अमर  रहे  कहते  हुए
बीतेगा  ये  हसीन  ठण्ड  की  जनवरी का  आखिरी  शुक्रवार ...
वीकेंड  काफी  है  उसके  बाद    सोमवार
उतर  जाएगा  तब  तक  "गणतंत्र" बुखार
पर  बात यही   ख़तम  नहीं  होती
अगले  साल  फिर  एक  बार
बहेगी  "गणतंत्र " की  बयार . ....

सभी को  ६३ वा   गणतंत्र    मुबारक   हो .......वन्दे मातरम्

मंगलवार, 24 जनवरी 2012

अजीबो-गरीब रंग

अजीबो-गरीब   रंग  बिखेरे  है  लोगो ने  मेरी  ज़िन्दगी  में
कभी  शाम  से  सुनहरे 
तो  कभी  बरसात  के  काले  बादल  से  गहरे 
कभी  तन्हाई   का  स्याह   कालापन  
तो  कभी  उजली  चटख  मुस्कान 
धोखे  का  मटमैला 
तो  कभी  विश्वास  का  रंग  फैला
विचित्र    है  ये  रंगों  के  किस्से  भी
कभी  श्वेत-श्याम  है  नेतृत्व   में  सुख-दुःख  के
तो  कभी  भेद  नहीं  इन्द्रधनुसी सप्तरंगो  में 
कुछ  अजनबी  है  अनजान  रंग  बिखेर  जाते  है 
कुछ  अपने  जो  कुछ  अनचाहे  रंगों  को  मिटाते  है
कितनी  रंगीन  सी  है  ये  ज़िन्दगी
और  रंगों   के  विवरण   से  भरी 
कभी  नीला स्वछंद आकाश  तो  कभी सूखी दूब  हरी ...
कुछ  रंग  मैंने  भी  उड़ेले  होंगे
चाहकर  कुछ  तो   कुछ  गलती  से
जो  मिला  जहाँ  रंगता  गया  अपने  रंग  में
अजीबो -गरीब  रंग  बिखेरे  है  लोगो ने  मेरी  ज़िन्दगी  में
इन्ही  रंगों  की  एक  "अकल्पनीय" रचना  है  ज़िन्दगी
रंग  जाओ  खुद    और  रंगों  दूसरो   को  भी
अंत  में  तो  एक  रंग  हो  जाना   है  सभी ........
अजीबो-गरीब  रंग  बिखेरे  है  लोगो ने  मेरी  ज़िन्दगी  में ..
अजीबो-गरीब  रंग   बिखेरे  है   मैंने भी लोगो की ज़िन्दगी  में









रविवार, 22 जनवरी 2012

फुर्सत में यू ही

आह !!!
दिन भर फेसबुक  पर  बर्बाद करने के बाद , पूरा दिन एक नई कविता की रचना के baare में सोचते सोचते , थोडा सा टीवी देखने के बाद जब खुद से बोर हो  गया  हूँ तो लिखने बैठा हूँ!!

हमेशा की तरह आज भी नहीं पता की क्या लिखूंगा बस एक कोशिश है खुद को खुद के सामने रखने की
यू तो मैं सुबह से सोचकर  बैठा था  की आज एक गीत जरुर लिखूंगा पर जब कुछ सोचकर करने बैठो तो कुछ भी नहीं होता है !!!
आज जब कुछ दोस्तों की कविताये पढ़ी तो अपने जीवन के भी कुछ क्षण याद आये की जब कोई मुझे पड़ता है तो क्या वो भी वैसे ही सोचता होगा जैसे की मैं, जो दो कविताये मैंने पड़ी उनमे मुझे एक में प्रेम की वेदना तो दूसरे में खुद से कुछ शिकायते और अपूर्णता का एहसास हुआ !!
क्या वो पंक्तिया उसी उदेश्य से लिखी गयी थी जो मैंने समझा या फिर वो मात्र एक काल्पनिक अभिव्यक्ति थी !!
क्यूंकि मेरे लिए लिखना खुद को व्यक्त करना है लेकिन दुःख व्यक्त करना भी दुःख को बढाना ही होता है !!
तो जब भी सोचो  तुम दुखी हो कुछ भावुक हो!!

"उठाओ कलम और शुरू हो जाओ
महसूस जो तुमने किया है जग को बताओ
बस ख्याल रहे इतना गम ही गम न व्यक्त करना
खुश मिजाजी से ख्यालो को भरना
कसक  हो दिल में सबको जता देना
लेकिन फर्क तुम्हे नहीं है ये भी बता देना
क्यूंकि शायद  तुमको भी पता नहीं 
 तुमको भी गम से अपने फुर्सत नहीं "

मंगलवार, 17 जनवरी 2012

आवर्तिकाए : भाग २

3B6ZGMT4  
प्रथम बार जब आवर्तिकाए पोस्ट की थी तो काफी अच्छी  प्रतिक्रियाये मिली.
और काफी दिन हो गये "आवर्त" से की गयी बातो को अपने ब्लॉग में नहीं प्रकाशित कर पाया आज समय भी है   और मौका भी तो फिर देर किस बात की शुरु करता हूँ आवर्तिकाए भाग २

"मेरी और आवर्त की कुछ बातें जिनमे न छंद है
न ही लय न ताल है
बस जिन्दगी से जुड़े कुछ सवाल है
इन्ही बातो को मैंने नाम दिया है आवर्तिकाए"


ज़िन्दगी  से  उम्मीद  ना की  "आवर्त"
जी    भर  के  इसको  जी
मिलती  है  ख़ुशी.


"आवर्त" जीना  कुछ  इस  कदर  जिंदगी  की
ज़िन्दगी  भी  खुश-कहे  तुझसे  इसने मुझे  जिया  है


अफ़सोस  तो  खाली  समय  में  किया  जाता  है  "आवर्त"
आजकल  फुरसत किसे   है  अपने  गमो  से


कुछ  कहानिया  माँ  ने  सुनाई  थी  "आवर्त"
चाह  के  भी  आज  याद  नहीं  आई....


इसको  लिखू  उसको  लिखू  किस -किस  याद  को  लिखू   "आवर्त"
उसकी  हर याद  हर  पल  आकर  एक  कविता  कर  जाती  है


पत्थर  से  बात  करना  ....."आवर्त"....."शायद" भगवान्  मिल  जाये ....
बेवजह  गरूर  लिए इंसान से ना करना ..."जरुर" शैतान  मिल  जाएगा


तेरी  ख़ुशी  गयी ........"आवर्त"
तेरे  इस  रूखेपन  से


रिश्तों  में  दरार  कब  आती  है  ??
"आवर्त" : जब  बातें  बहस बन  जाती  है.


कितनी  हसरते  है  तेरे  मन  में  ...."आवर्त "
एक "पूरी" तो  दूसरी  "अधूरी" रह जाती  है


तेरे  कटाक्ष  परिस्थिया  नहीं   सुधारते ..."आवर्त"
हृदय  वेदना से  भर  देते   है .......


तेरे  और  "ग़ालिब"  के  बीच  एक  ही  फर्क  है  ..."आवर्त"
ग़ालिब  का  दिल  से  लिखा  लोग  दिल   से  पढते  थे.


तेरा  कुछ  नहीं  होने  वाला  ..."आवर्त"..
बातों  की  भीड़  में  ही  खो  जाएगा  तू ...


तेरी  बातों  ने  रुला  दिया  .."आवर्त"
लिखने  लायक   कुछ  "बचा" नहीं ....................


गलतियों   और  मजबूरियों  का  मिजाज
थोडा  समझा   हूँ  मैं   आज,
गलती  अपनी  हो  तो  मजबूरी  लगती  है ..."आवर्त"
और  दूसरो  की  "मजबूरिया" गलती.


अरसा  बीत   गया   "हिचकी" आये  हुए  "आवर्त"
लगता  है  अब  तो  तुझे  कोई  याद  भी  नहीं  करता ....
सफ़र जारी है क्रमश :

शुक्रवार, 6 जनवरी 2012

ये रिश्ते अनोखे

"ये  रिश्ते  अनोखे"
पास रहकर न समझा कभी
दूर जो जाना पड़ा,
याद आई है अभी
कुछ तो बात थी ,
जो तकरार में भी मुस्कुरा लेता था,
अब सिर्फ चंद बातो के मोहताज है
कहने को  ही  मुलाकाते   होंगी अब,
बता न सके कभी दिल के इतने राज है
खुश हूँ दिल से ये भी बात है
मंजिल के करीब है सभी
चरम पर जज्बात है
पर वो रास्ते का सफ़र ही भाया है
ये मंजिले हासिल करना तो सिर्फ मोह माया है !!

"सूखे तालाब के कीचड़ में तड़पती मछली सा
और सागर किनारे गीली रेत का
किस्सा भी कुछ अजीब है
एक को इंतज़ार है बादलो से बारिश का
तो दूसरे को सूझनी धूप की तरकीब है " 

एक साथ दोनों की इच्छा पूरी नहीं हो पायेगी
सूरज जाएगा धूप छोडकर
तो ही बरखा रानी आ पाएगी
जीएगी मछली भी तालाब की
और कुछ वक़्त में रेत भी सूख जाएगी !!
वादे तो खूब कर लिए
पता है निभाने की कोशिश होगी हमेशा
लेकिन उनके पूरे होने की शुभ घडी
न जाने कब आएगी .........
अनजाने,अनचाहे यादों से सींच ये रिश्ते दोस्ती और प्यार के मैं बना गया
अब बस एक एहसास है हर पल मेरे पास है "ये  रिश्ते  अनोखे  "



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

comments

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes |