KHOJ

Loading

गुरुवार, 22 दिसंबर 2011

तलाश है जारी

एक साथी अदद की तलाश है जारी,
जो  सुने  मुझे,
अपनी  भी  कहता  जाये,
संग  चले  मेरे  वो,
मेरे  ही भावों में  बहता  जाये,
सवाल  करे  न  समझदारी  के,
जवाब  मेरे  समझ  जाये,
मैं  धुन  में  जिसकी  रहू  मग्न,
दिल  दुविधा   से   बच  जाये ,
किस्से  कहानिया बुने  हम  हजार,
कोई  न  उनको  समझ  पाए,
खुशिया समेटे   एक दूजे   में ,
तन्हाई  में  भी  हो  हिस्सेदारी,
एक  साथी  अदद  की  तलाश  है  जारी....


Reactions:

3 comments:

sushma 'आहुति' ने कहा…

बेहतरीन भाव ... बहुत सुंदर रचना....

India Gets Everything Free ने कहा…

Bahut Achchhe Dost

amit rawat ने कहा…

sukria "sushma" ji
Evam
Rajan bhai ji

एक टिप्पणी भेजें

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

comments

 
Design by Free WordPress Themes | Bloggerized by Lasantha - Premium Blogger Themes |